Critics With Fun!

एशिया के सबसे पहले एतिहासिक मिशनरी वुड स्टॉक स्कूल के भवन का पुश्ता ढहा, रोड हुई बंद

मसूरी। ईस्ट इंडिया कंंपनी के शासन काल में 1854 में स्थापित हुुुए एशिया के सबसे पहलेेेे मिशनरी संचालित वुुड स्टॉक स्कूल के एक भवन का पुश्ता ढहगया है। पुराने टिहरी बस स्टैंड से जबरखेत जाने वाले मार्ग पर स्थित स्कूल भवन का पुश्ता ढहने से रोड बंद हो गई है। जेसीबी की मदद से रोड खोलने के प्रयास हो रहे हैं। मलबा ज्यादा होने के कारण इस काम में समय लग सकता है। रोड बंद होने से आने-जाने वालों को बहुत परेशानी हो रही है। वाहनों को करीब 10 किलोमीटर का चक्कर काटकर टिहरी बाईपास रोड से आवागमन करना पड़ रहा है।
मसूरी शहर के मलिंगार चैक से पुराने टिहरी बस स्टैंड होकर जबरखेत-बाटाघाट जाने वाले मार्ग पर वुड स्टॉक स्कूल के एक भवन का पुश्ता ढह गया। इससे भवन को भी खतरा पैदा हो गया है। अगर लगातार बारिश जारी रही तो भवन भी गिर सकता है। स्थानीय निवासियों ने बताया कि पुश्ता रात को हुई बारिश में ढह गया। इससे रोड बंद हो गई। इसकी सूचना मिलने पर लोक निर्माण विभाग ने जेसीबी भेज कर कार्य शुरू कर दिया है। इस सबंध में लोक निर्माण विभाग के अपर सहायक अभियंता संसार सिह ने बताया कि रोड रात को बंद हो गई थी। रात को काम करना संभव नहीं था। इस कारण सुबह जेसीबी भेज दी गई थी। रोड खोलने में समय लगेगा। उन्होंने बताया कि पुश्ते के साथ ही पहाड़ से बड़े बोल्डर गिरे हैं। इन बोल्डरों को साफ करने में समय लगेगा और रोड शाम तक ही खुल पायेगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.