Critics With Fun!

प्रसिद्ध सॉफ्ट ड्रिंक का सैंपल फेल होने पर कंपनी पर लगा लाखों रुपए का जुर्माना

अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व केके मिश्रा ने किया 28 लाख रूपये का जुर्माना

हरिद्वार।
अपर जिला अधिकारी वित्त एवं राजस्व ने पेय पदार्थ बनाने वाली कंपनी सीएण्ड एस और होलसेलर पर कुल मिलाकर 28 लाख का जुर्माना किया है। तीस दिन में जुर्माना न देने पर वसूली करने की कार्रवाई के भी आदेश दिए है।
अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व केके मिश्रा ने बताया कि खाद्य सुरक्षा अधिकारी नगर निगम हरिद्वार द्वारा 24 जुलाई 2013 को प्रिज्मा एचआर सोल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड ज्वालापुर का निरीक्षण कर टा्रॅपिकाना जूस लीची का सैंपल लिया गया था। उक्त सैंपल खाद विश्लेषणशाला रुद्रपुर में मिस ब्रांडिड पाया गया। खाद विश्लेषणशाला रुद्रपुर ने उक्त सैंपल के मिसब्रांडेड होने पर न्यायालय न्यायिक अधिकारी/ अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) हरिद्वार में मुकदमा दायर किया था। जिसमें न्याय निर्णय अधिकारी/ अपर जिला मजिस्ट्रेट (वित्त एवं राजस्व) हरिद्वार द्वारा सभी पांच विपक्षियों को सुनवाई का पर्याप्त अवसर प्रदान किया गया। परंतु उक्त पांचो विपक्षीया में से कोई भी न्यायालय में उपस्थित नहीं हुए। वहीं तीन विपक्षियों द्वारा लिखित बहस प्रस्तुत की गई। परंतु दो विपक्षियों द्वारा लिखित में भी कोई पत्राचार प्रस्तुत नही किया गया। अपर जिला अधिकारी कृष्ण कुमार मिश्र ने बताया कि विपक्षी संख्या 1— एमएच प्रिज्मा एचआर सोल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड पर एक लाख रूपये, विपक्षी संख्या 2— सीएण्ड एस लाइसेंस होल्डर अशोक शर्मा ज्वालापुर पर दो लाख रूपये, वरुण बेवरेज लिमिटेड महंत पेट्रोल पंप रुडकी पर पांच लाख रूपये विपक्षी संख्या 4व 5 मैसर्स स्क्राइबर डायनामिक डेयरी लिमिटेड व पेप्सीको होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड पर दस दस रुपए का जुर्माना रोपित किया गया है। बताया कि कुल जुर्माने की धनराशि 28 लाख रूपये विपक्षी गणों द्वारा 30 दिन के भीतर जमा करने के लिए निर्देशित किया गया है। अन्यथा विपक्षीगण के विरुद्ध वसूली प्रमाण पत्र जारी कर धनराशि वसूली जाएगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.