Critics With Fun!

बदले हालात के साथ ही बदल गयी जम्मू कश्मीर की डोमिसाइल पालिसी, आम भारतीय के अधिकार हुए बहाल

आज दिनांक 20 June 2021 को लद्दाख एवं जम्मू कश्मीर अध्ययन केंद्र के परीक्षेत्र के 6 विश्वविद्यालय आगरा अलीगढ़ बरेली मेरठ गढ़वाल एवं कुमाऊं विश्वविद्यालय की ऑनलाइन के माध्यम से जम्मू कश्मीर अध्ययन केंद्र की एक मीटिंग आयोजित की गई जिसकी अध्यक्षता श्रीमान सुशील कुमार जी क्षेत्रीय बौद्धिक प्रमुख राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ एवं संचालन श्री अरविंद कुमार श्रीवास्तव अधिवक्ता के द्वारा की गई बैठक मैं मुख्य वक्ता श्री अजय जी राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य लद्दाख एवं जम्मू कश्मीर अध्ययन केंद्र के द्वारा की गई श्रीमान अजय जी जम्मू कश्मीर मामलों के विशेषज्ञ भी कहे जाते हैं

श्री अजय जी द्वारा अपने उद्बोधन में डोमिसाइल पॉलिसी के विषय में बताते हुए बताया कि जम्मू कश्मीर में 15 वर्ष तक कोई भी निवास करने वाला व्यक्ति या 7 साल तक पढ़ाई करने वाले व्यक्ति जिसके माता पिता द्वारा 10 साल सेवा में रहे हो, या ऐसे जिन व्यक्तियों के माता-पिता किसी भी कारण से अगर जम्मू-कश्मीर से बाहर है, तो वह व्यक्ति भी अपना डोमिसाइल बनवा सकते हैं डोमिसाइल के लिए अप्लाई करने से पहले ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाना अनिवार्य है, आर्टिकल 35A लागू होने से 10 वर्ष पूर्व तक जिस भी व्यक्ति के पास कोई भी अचल संपत्ति थी वह भी अपना डोमिसाइल अप्लाई कर सकता है, इन सबके लिए 1 वर्ष के लिए का समय दिया गया था परंतु कोरोना की वैश्विक आपदा को देखते हुए लद्दाख एवं जम्मू कश्मीर अध्ययन केंद्र द्वारा इस अवधि के समय सीमा बढ़ाए जाने की मांग की गई है एवं प्रयास किया जा रहा है !

5 अगस्त 2019 के बाद अब तक 2300 परिवारों ने अपना रजिस्ट्रेशन करवा लिया है, जो भी व्यक्ति 1962 में किसी भी कारणवश अपना रजिस्ट्रेशन नहीं करा पाए थे ऐसे परिवारों की संख्या 6000 है जिन्हें अध्ययन केंद्र द्वारा पहचाना जा चुका है, एक समय में केवल एक प्रमाण पत्र PRC (परमानेंट रेजिडेंशियल सर्टिफिकेट) जिनके पास होता था, केवल वही सरकारी सुविधाओं का लाभ उठा सकते थे! 5 अगस्त 2019 के बाद अब यह लाभ कोई भी व्यक्ति उठा सकता है, पहले जम्मू कश्मीर के सभी राजनीतिक दल केवल विधानसभा इलेक्शन के लिए तो हमेशा तत्पर रहते थे परंतु पंचायती राज व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए कोई प्रयास नहीं किया जाता था ! हाल में ही संपन्न हुए पंचायती चुनाव जो 20 जिलों में संपन्न हुए हैं उसमें राष्ट्रवादी पार्टियों के बहुत सारे उम्मीदवार जम्मू कश्मीर में चुनकर आए हैं ! वर्तमान में सरकार द्वारा वहां के विकास के लिए जम्मू रिंग रोड प्रोजेक्ट, मेट्रो रेल प्रोजेक्ट, 9 मेडिकल कॉलेज व 750 बेड का एम्स अस्पताल बनने जा रहा है! 500 बेड के दो कोविड-19 अस्पताल डीआरडीओ के द्वारा जम्मू एवं श्रीनगर ने बनाए गए हैं ! विश्व का सबसे ऊंचा रेलवे पुल बनकर तैयार हो गया है, सामरिक दृष्टि के महत्व को देखते हुए लद्दाख क्षेत्र का विशेष तौर पर विकसित किया जा रहा है, नए भूमि कानून बना दिए गए हैं एवं भारत सरकार के हर अधिनियम अब जम्मू जम्मू कश्मीर और लद्दाख क्षेत्र में लागू हो चुके हैं !

युवाओं में रोजगार बढ़ाने के लिए 10000 नौकरियां सृजित की गई हैं ! अट्ठारह सौ पचास पद जम्मू एंड कश्मीर बैंक में सृजित किए गए हैं ! जम्मू कश्मीर लोक सेवा आयोग द्वारा विभिन्न पदों की आवेदन लगातार मंगाए जा रहे हैं ! अलगाववादियों एवं आतंकवादी गतिविधियों पर रोक लगी है, सरकारी नौकरी में होते हुए अलगाववादी गरिविधियों में संलिप्तता पाए जाने पर वैधानिक कार्यवाही भी शुरू हो गयी है, जम्मू कश्मीर का वातावरण अब सर्वसामान्य के लिए अनुकूल होता जा रहा है, बैठक का समापन रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल श्री दुष्यंत सिंह जी द्वारा किया गया अपने समाप्ति भाषण में उन्होंने बताया कि डीडीटीसी जो रिजल्ट आया है उसका पैटर्न अभी भी वही रहा है जहां जम्मू में राष्ट्रवादी दलों द्वारा जीत हासिल की गई वही घाटी क्षेत्र में पीडीपी व नेशनल कॉन्फ्रेंस में जीत हासिल की इस कारणवश आज भी कहीं-कहीं जनसामान्य की हत्याएं होने की खबरें आती रहती हैं को ध्यान में रखते हुए कुछ क्षेत्रों में सुरक्षा बलों का डेप्लॉयमेंट अभी भी जारी है जब तक ग्राउंड जीरो पर हथियारों की संख्या में कमी नहीं आती तब तक सिचुएशन पूरी तरह से कंट्रोल नहीं होगी सरकार द्वारा इसके लिए सतत प्रयास जारी है ।

मीटिंग को टेक्निकल सपोर्ट श्री विकास तिवारी द्वारा एवं बैठक में एडवोकेट कृष्ण कुमार सैनी, मनु शिवपुरी ब्रैंड एंबेसेडर बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, युवराज सिंह, आशुतोष शर्मा, दिव्य दृष्टि, पूजा पांडे, नेहा पांडे, डॉक्टर आलोक सिंह, श्री केहर सिंह, श्री दरबान सिंह कार्की, श्री राहुल वर्मा, श्री राजीव सिरोही, मयूर संजय रावत, अभिषेक रस्तोगी, राजन सिंगल, विशाल शर्मा, श्री सूर्यभान सिंह, डॉक्टर एल एस बिष्ट, शिवम मिश्रा, आशुतोष गुप्ता, डॉक्टर एस के परचा, डॉ हरिशंकर राय, संजय कुमार, दयाधर दीक्षित, प्रियांश कुमार एडवोकेट, रोहित सिंह कनवाल एडवोकेट, योग निगम, डॉ दयानंद दिवेदी, सुधीर यादव, संदीप अक्षत, रविंद्र कुमार, नवाब सिंह, नरेंद्र सिंह, मनोज जोशी, चंद्रावती म्हारा, शैलेंद्र घड़ियाल, अमित त्यागी, आदि उपस्थित रहे एवं अपनी जिज्ञासा प्रश्न रखे गए

Leave A Reply

Your email address will not be published.